- Advertisement -

Red Lehenga In Wedding : सनातन धर्म में दुल्हनें क्यों पहनती है लाल जोड़ा, जानिए इसके पीछे का धार्मिक कारण

0

Byu Now

Red Lehenga In Wedding : आजकल लड़कियाँ अपनी शादी पर अपनी इच्छानुसार चमकीले या हल्के रंगों के साथ पेस्टल रंगों के इनोवेटिव डिज़ाइनर कपड़े पहन सकती हैं, लेकिन प्राचीन काल से ही हिंदू समाज में दुल्हनें अपनी शादी के दिन लाल रंग के कपड़े पहनती हैं। इस रंग को पसंद के अलावा कई बातों को ध्यान में रखकर चुना गया है, जिससे ज्यादातर लोग अनजान हैं।

सनातन धर्म में विवाह को एक पवित्र संस्कार माना जाता है। इसमें दो आत्माओं का मिलन होता है। सरल शब्दों में कहें तो शादी के बाद दूल्हा-दुल्हन संपूर्ण होते हैं। इससे पहले दोनों में कुछ न कुछ अपूर्णता जरूर है।  ऐसा करने के लिए, शादी में उत्सव का माहौल बनाया जाता है। दोनों तरफ के लोग पहले से तैयारी करते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि दुल्हन शादी में लाल जोड़ा ही क्यों पहनती है? आइए विस्तार से बताते हैं।

लाल जोड़ा पहनने का धार्मिक कारण ( Red Lehenga )

Red Lehenga In Wedding : सनातन धर्म में दुल्हनें क्यों पहनती है लाल जोड़ा, जानिए इसके पीछे का धार्मिक कारण

ज्योतिष शास्त्र में लाल रंग को बहुत शुभ माना जाता है इसलिए धार्मिक अनुष्ठान, पूजा-पाठ, विवाह आदि में लाल, पीला और गुलाबी रंग का विशेष महत्व होता है। लाल रंग सकारात्मक ऊर्जा से भरपूर होता है। ऐसा माना जाता है कि जब दुल्हन शादी के दौरान लाल रंग का जोड़ा पहनती है तो ऐसा लगता है कि सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह बढ़ जाता है। लाल रंग सकारात्मक ऊर्जा को अपनी ओर आकर्षित करता है। यही मुख्य कारण है कि दुल्हन शादी में लाल रंग का लहंगा पहनती है।

- Advertisement -

सुखी विवाह के लिए ( Red Lehenga )

Red Lehenga In Wedding : सनातन धर्म में दुल्हनें क्यों पहनती है लाल जोड़ा, जानिए इसके पीछे का धार्मिक कारण

लाल रंग मंगल ग्रह का रंग माना जाता है। ज्योतिष में इस ग्रह का विशेष महत्व है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि मंगल आपके वैवाहिक जीवन में प्यार, समझ, खुशी, समृद्धि सहित सभी अच्छी चीजें लाता है और साथी के साथ आपके रिश्ते को मजबूत करता है।

अनोखा लुक पाने के लिए ( Red Lehenga )

Red Lehenga In Wedding : सनातन धर्म में दुल्हनें क्यों पहनती है लाल जोड़ा, जानिए इसके पीछे का धार्मिक कारण

शादी में दूल्हा-दुल्हन को सबसे खूबसूरत और अलग दिखाने के लिए उन्हें चमकीले रंग के कपड़े पहनाए जाते हैं। ऐसे में लाल रंग का प्रयोग सबसे ज्यादा किया जाता है। अगर इसे वैज्ञानिक दृष्टिकोण से समझा जाए तो लाल रंग की तरंग दैर्ध्य सबसे लंबी होती है, जिसके कारण इसे दूर से भी आसानी से देखा जा सकता है।

- Advertisement -

Leave A Reply

Your email address will not be published.